Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है?

हैल्लो दोस्तों, स्वागत है आपका हमारी आजकी इस नई पोस्ट में, जिसमें हम आपको Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है? के बारे में बताने वाले हैं।

आज के पोस्ट में आपको डिजिटल कंप्यूटर से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त होगी, इसलिए Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है? के बारे में पूरी तरह से जानने के लिए हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़ें।

Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है?

Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है?

दोस्तों आजकी पोस्ट में, आप Digital Computer के बारे में विस्तार से जानेंगे, यहाँ हम आपको Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है? के साथ Digital Computer के प्रकार, के बारे में भी बताएंगे और साथ ही Digital Computer के भाग, और डिजिटल कंप्यूटर की विशेषताएं, आदि विषयों की भी जानकारी देंगे।

तो चलिये सबसे पहले जानते हैं कि, Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है?

इससे पहले की पोस्ट में हमने आपको Computer के बारे में जानकारी दी थी की Computer को hindi में क्या कहते हैं? और Computer कितने प्रकार के होते हैं? यदि आपने वह पोस्ट नही पढ़ी है तो हमारा सुझाव है आप उसे ज़रूर पढ़ें।

यहाँ क्लिक करके आप इसे पढ़ सकते हैं Computer को हिंदी में क्या कहते हैं?

तो आप बात करते हैं अपने main topic के बारे में, Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है?

आप में से अधिकांश लोग PC (Personal Computer) यानि कि “खुद के कम्प्युटर सिस्टम” के बारे मे जानते ही होगा, और वह लोग जो कंप्यूटर सिस्टम पर काम करते हैं या उसी Field में कार्य करते हैं, वह अलग अलग तरह की कंप्यूटरों के बारे में भी जानते होंगे।

जैसा की अभी आपको हमारी कर कही गयी बात से पता लग ही गया होगा की Computer के बहुत सारे प्रकार होते हैं इस दुनिया में काफी अलग अलग तरह के Computer मौजूद हैं, तो Digital Computer उन्ही कंप्यूटरों में से एक प्रकार का कंप्यूटर है।

चलिए आइये विस्तार से जानते हैं Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है? के बारे में।

यह भी पढ़ें: Internet की खोज किसने की?

Digital Computer Meaning In Hindi

Digital शब्द का अर्थ, Computer में जानकारी को Variables द्वारा दर्शाना, (मतलब बिना किसी तारों को जोड़े आधुनिक टेक्नोलॉजी की मदद से) जानकारी को दर्शाना।

और Computer शब्द का अर्थ, संगणक या गणना करना है इसलिए आम भाषा मे इसे Calculating Device माना जाता है।

यह भी पढ़ें: Digital Marketing क्या है?

Digital Computer क्या है?

Digital Computer वह डिजिटल सिस्टम है जो अलग अलग तरह के कई कम्प्यूटेशनल (Computational) काम करता है। Digital Computer में Input द्वारा दी गयी Detail को Data कहा जाता है। और वहीं दूसरी तरफ इससे प्राप्त Output Results को अक्सर जानकारी या सूचना कहा जाता है।

Digital Computer इंपुट डाटा लेता है, फिर उसे प्रोसेस करता है और उसके बाद Output Device पर सूचना या परिणाम दिखाता है।

यह एक ऐसा Device है जिससे आपको आउटपुट पाने के लिए अपने हिसाब से Programing करने की ज़रूरत होती है। यह कई अलग-अलग प्रकार के डेटा को Generate करने, Store करने और Process करने के लिए Electronic Technology का इस्तेमाल करता है।

अब कंप्यूटर का इस्तेमाल केवल गणना करने के लिए ही नहीं किया जाता है आजके दौर में इसका इस्तेमाल Video, Music, ग्राफिक्स, और Internet के कार्य और बहुत से अन्य क्षेत्रों में भी बड़ी आसानी से किया जाता है। इसलिए आज के समय में, कंप्यूटर की Definition बदल गयी है। इसलिए इसे अब Calculating Device नही बल्कि एक Electronic Device कहते हैं।

Digital Computer का Use पूरी दुनिया मे किया जाता है यह एक बहुत ही Powerfull डिवाइस और सबसे ज्यादा इस्तेमाल करा जाने वाला Electronic Device है। यह ऐसा डिवाइस या मशीन है, जो किसी भी तरह के Data की जानकारी को मशीनीरी भाषा ( Binary Code Language – “0 और 1”) मे बदलकर उसे Process करता है।

Digital Computer में जब भी हम कोई डाटा इनपुट करते हैं तो उसे यह हमे कुछ ही सेकंड के अंदर Output करके दे देता हैं।

जैसा कि अभी उपर हमने आपसे कहा कि Digital Computer मशीनरी भाषा का इस्तेमाल करता है, मशीनरी भाषा (0 और 1 इन दो अंको (Digits) से बनी बाइनरी नंबर सिस्टम है।

Digital Computer में सूचनाओं को Bits के Groups में दिखाया जाता है। हम आपको बता दें, एक Binary Digit को एक Bit कहते हैं और “Bit” कंप्यूटर में Data की सबसे छोटी इकाई होती है।

Digital Computer क्या है?

और जानकारी के लिए YouTube Video भी देखें।

Video Credit: WsCube Tech

Digital Computer की खोज कब हुई?

दुनिया का पहला इलेक्ट्रॉनिक Digital Computer सन् “1940” के आखिर में खोजा गया था। इसे खासकर संख्यात्मक गणना (Numerical Calculation) के लिए बनाया गया था। Personal Computer यानि कि PC, डेस्कटॉप, Laptop, डिजिटल वॉच, Mobile, कैलकुलेटर Smartphone आदि कुछ Digital Computer के उदाहरण हैं।

यह भी पढ़ें: Laptop को हिंदी में क्या कहते हैं?

Digital Computer कितने प्रकार के होते हैं?

Device के प्रकार और Size के आधार पर, Digital Computer को चार Categories में बाँटा गया है।

  1. माइक्रो कंप्यूटर
  2. मिनी कंप्यूटर
  3. मैनफ्रेम कंप्यूटर
  4. सुपर कंप्यूटर

1. Micro Computer

आमतौर पर पर्सनल कंप्यूटर को ही माइक्रो कंप्यूटर कहा जाता है। Micro Computer वे कम्प्यूटर होते हैं जो अपने लिए नॉर्मल काम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। आजकल छोटे से लेकर बड़े Buisnis तक और अपने Personal कामों में माइक्रो कम्प्यूटर (Micro Computer) का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है।

ये कम्प्यूटर Micro Processor पर कार्य करता हैं। इसके अंदर Input Unit/Output Unit, मदरबोर्ड, CPU (Central processing Unit ) और स्टोरेज यूनिट अन्य उपकरण होते हैं।

इस Computer का साइज़ छोटा होता है और साथ ही इसकी लागत भी कम होती है। पेंटियम माइक्रोप्रोसेसर के आधार पर HP, Dell, Apple, और IBM PC मैकिंटोश Micro Computer के कुछ अच्छे उदाहरण हैं।

Micro Computer में Computer या Laptop, डेस्कटॉप कम्प्यूटर, Notebook, हैंडहेल्ड कम्प्यूटर, टैबलेट और Smartphone डिवाइस भी शामिल हैं।

2. Mini Computer

Mini Computer एक मध्यम आकार (Medium Size) का Multiprocessing Computer है जिसे mid-range कम्प्यूटर के रूप में भी जाना जाता है।

मिनी कंप्यूटर में दो या दो से अधिक Processer होते हैं इसलिए यह एक जैसे Computer Memory और Peripheral Devices को कई Users के एक साथ शेर कर सकते हैं।

Mini Computer, मेनफ्रेम कम्प्यूटर और Micro Computer के बीच स्थित होता है क्योंकि यह माइक्रो कंप्यूटर से बड़ा लेकिन Mainframe Computer से छोटा होता है। इसलिए इसमें मेनफ्रेम कंप्यूटर से कम लेकिन माइक्रो कम्प्यूटर से ज़्यादा Process क्षमता होती है।

मिनीकंप्यूटर का उपयोग ज़्यादातर बड़े संस्थानों, बड़ी-बड़ी कंपनियों, बैंकों, अकाउंटिंग, डेटाबेस मैनेजमेंट, फ़ाइल मैनेजमेंट, ट्रैफिक कंट्रोल क्षेत्र, विभागों में बिलिंग, व्यापार लेनदेन, और इन्वेंट्री प्रबंधन जैसे कार्यों में किया जाता है।

Apple iPad, DEC PDP, Honeywell200, VAX Series, IBM’s AS/400e, आदि मिनीकंप्यूटर के कुछ उदाहरण हैं।

3. Mainframe Computer

आमतौर पर Mainframe Computer बहुत बड़े साइज़ के होते हैं। जिनको रखने के लिए एक अलग कमरे या अलग स्थान की आवश्यकता पड़ती है। इसका इस्तेमाल प्रमुख रूप से बहुत बड़ी मात्रा में Data Processing के लिए करा जाता है और इसकी Data स्टोर करने की क्षमता बहुत ही ज़्यादा होती है।

Mainframe Computer माइक्रो कम्प्यूटर और मिनी कंप्यूटर की तुलना मे बहुत बड़े होते हैं। ये बहुत Powerfull होते हैं और इसकी Processing क्षमता काफी तेज होती है। यह ऊपर बताये गए सभी कंप्यूटरों से सबसे जादा तेज और पॉवरफुल होते हैं लेकिन ये Super Computer से ज्यादा शक्तिशाली नहीं होते हैं।

Mainframe Computer कंप्यूटर इस तरह से डिज़ाइन किया गया है की, इसे सैकड़ों या हजारों Users एक साथ Access कर सकते हैं। इसका मतलब है कि एक साथ Different Processes को Execute कर सकते हैं।

इस तरह के Computer का इस्तेमाल बड़े संगठनों जैसे- Banking, टेलीकोम सेक्टर, बड़ी-बड़ी Industry कंपनी, Government Department और विभिन्न क्षेत्रों मे किया जाता है।

IBM zSeries जैसे IBM System z13, IBM z14, और IBM z15, आदि मेनफ्रेम कम्प्यूटर उदाहरण के कुछ बेहतरीन उदाहरण हैं।

4. Super Computer

जैसा की आप इसके नाम से ही समझ गये होगें Super Computer बहुत तेजी से काम करता है। यह दुनियां का सबसे बड़ा, सबसे महंगा और सबसे Fast Computer है।

यह एक बहुत ही Advanced कम्प्यूटर है और इस कंप्यूटर मे हजारों Processers मौजूद हैं, जो हर एक सेकंड खरबों की Calculations करते हैं, इस ही वजह से इसके काम करने की क्षमता बाकी सभी दूसरे Computers की तुलना में सबसे ज़्यादा होती है।

Super Computer कम्प्यूटर industry में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसे कई कंप्यूटरों का Combination भी कहा जा सकता है जो Parallel में Data Processing करते हैं।

इसका इस्तेमाल बड़े पैमाने पर कम्प्यूटर से संबन्धित जटिल काम करने जैसे- वैज्ञानिक क्षेत्र, Satellite या Space Department, मौसम की भविष्यवाणी (Weather Forecast) और जलवायु जांच, परमाणु ऊर्जा रिसर्च, Oil और गैस inspection, शिक्षा क्षेत्र, इंजीनियरिंग क्षेत्रों आदि में किया जाता है।

India मे परम C-Dac द्वारा विकसित स्वदेशी Super Computers की एक श्रृंखला है। भारत का पहला Super Computer का नाम “परम 8000” है और इस श्रृंखला में बने नवीनतम सुपर कम्प्यूटर का नाम “PARAM-Siddhi AI” हैं, जो विश्व में सबसे पावरफुल सुपर कंप्यूटर के टॉप 500 की लिस्ट मे भारत का 63वां स्थान हैं। Sierra (US), Sunway TaihuLight (China), Frontera (US), और Summit (US) आदि दुनिया के सबसे तेज़ कंप्यूटरों के उदाहरण हैं।

Digital Computer में कितने भाग में कार्य होता है?

Digital Computer में प्रमुख रूप से तीन भाग में कार्य होता है जो नीचे दिए हैं-

1. Input: जब भी कोई User नॉर्मली डिवाइस में डेटा Type करता है, तो उसे Input के रूप में जाना जाता है।

2. Processing: जब User द्वारा इनपुट करा गया Data परिभाषित क्रम का इस्तेमाल करके डिवाइस के आंतरिक हिस्से (Internal Part) में प्रोसेस करता है।

3. Output: जब Data पुरा Process हो जाता है तो, Input के आधार पर Output Result यूज़र को दिखाई देता है।

Digital Computer की विशेषताएं

Memory Capacity: Digital Computer अत्यधिक मात्रा में Data या इन्फॉर्मेशन Memory में Store कर सकते हैं और सिर्फ एक सेकंड के अंदर ही Data को पुनः Retrieve कर सकते हैं।

Memory में डाटा या informations को किसी भी समय तक Store करके रखा जा सकता है और कभी भी Restore या वापस एक्सेस किया जा सकता है, जैसे Hard Disk, फ्लॉपी डिस्क, सॉलिड डिस्क, ऑप्टिकल डिस्क आदि।

Very Flexible: यह कम्प्यूटर बिना किसी हस्तक्षेप के Multi-tasking करते हैं और एक साथ बहुत सारे कार्य Process करते हैं जैसे- Document Drafting के दौरान कोई Page का Print निकालना, Music सुनना, Chat करना आदि। इसी कारण ये बहुत Flexible और Versatile होते हैं।

Good Speed: Digital Computer काफी तेज Speed में कार्य करते हैं और सभी कार्यों या निर्देशों (instructions) को पल भर में तेज़ स्पीड से Process करते हैं। ये किसी कार्य या instruction को एक सेकेंड में ही हल कर सकता है।

Accuracy: यह डिवाइस सभी इन्फॉर्मेशन Data को Memory में स्टोर करने में सहायक होते हैं जो एक तय समय में आवश्यकता पड़ने पर Accurate Data प्राप्त करने मे सहायता करते हैं।

Computer कोई भी गलती किए बिना एकदम सही Calculations करता है। इसमे कोई गलती तभी आती है जब व्यक्ति द्वारा गलत input या instructions दिए गए हों।

Diligence: यह Computer बिना थके हर काम को लगातार कर सकता है। यह कभी भी थकता नहीं है, इसी वजह से यह किसी काम को बिना किसी गलती या रुकावट के लगातार कर पाता है।

Automatic: यह Device एक बार शुरू हो जाने के बाद Automatic हो जाते हैं। जब तक विशेष रूप से कोई कार्य आवश्यक होने तक उन्हें किसी हस्तक्षेप करने की जरूरत नहीं पड़ती।

Digital Computer के कितने भाग होते हैं?

चलिए जानते है, Digital Computer के कितने भाग या कॉम्पोनेंट होते हैं? यहाँ नीचे हम आपको डिजिटल कंप्यूटर में बेसिक Component के बारे में बता रहे हैं।

Input Device

इनपुट डिवाइस ख़ास तौर पर वह डिवाइस होते हैं जो सिस्टम से जुड़े होते हैं जैसे कि Mouse, Keyboard, Printer, Microphone और Scanner आदि।

Users इनपुट डिवाइस की मदद से System को instruction देते हैं व कम्प्यूटर इन instructions को समझकर Action लेता है, इसके बाद इस इनपुट को कम्प्यूटर Binary Langauage में बदलता है जिसे कम्प्यूटर को समझने में आसानी होती है।

CPU

CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) को कम्प्यूटर का दिमाग माना जाता है क्योंकि यह पूरे Computer System को कंट्रोल करने का कार्य करता है। जब यूज़र इनपुट डिवाइस के माध्यम से इनपुट करता है, तो CPU उसे प्रोसेस करता है अथार्त CPU कम्प्यूटेशनल कार्य करता है इसके बाद रिजल्ट Output Device को भेजता है।

CPU के अंदर कई अलग-अलग Components होते हैं, जिनके कार्य की अलग-अलग जिम्मेदारियां होती हैं।

ALU

इसका फुलफोर्म Arithmetic Logic Unit है, यह Computer Hardware का एक Digital Circuit होता है। ALU का मुख्य रूप से सभी Arithmetic, Logical और Mathematical Calculations का कार्य करता है, जिसमें जोड़ना, घटाना, गुणा और भाग शामिल हैं।

Control Unit

Control Unit का मुख्य रूप से कार्य Data और निर्देशों को Controll करने के लिए किया जाता है। यह Computer के सभी Units को Manage और Coordinate करता है।

Control Unit मेमोरी से instructions प्राप्त करता है, और उसे Interpret करता है, और इसलिए इसके बाद Input/Output Devices को Command भेजता है।

Memory

Computer के इस भाग का Use मुख्य रूप से Data को Store करने के लिए करा जाता है, इसे “Internal Memory” भी कहा जाता हैं। Internal Memory को कई Locations में बांटा हुआ है जो instructions को स्टोर करते हैं।

इनमे से हर एक Location का Unique Address और समान Size होता है। कम्प्यूटर इस Unique Address की मदद से मेमोरी में स्टोर हुए डेटा को पूरे मेमोरी लोकेशन को सर्च किए बिना आसानी से Read कर लेता है।

जब भी कोई प्रोग्राम Run करता है, तो डेटा Internal Memory में Store होता है और Execution के आखिर तक बचा रहता है।

Output Devices

Output Device वह डिवाइस हैं जो कम्प्यूटर से Connected होते हैं और इसके माध्यम से सूचनाओं को अलग अलग Output Device पर देख एवं Access कर सकते हैं।

कम्प्यूटर में Binary Data को उस भाषा में Convert करते हैं जिसे कम्प्यूटर Users Output डिवाइस पर समझते हैं। कम्प्यूटर मे Output 0 और 1 के रूप में दिखता है जिसे कम्प्यूटर की भाषा मे Machine Language कहते हैं।

कुछ Output Device के सामान्य उदाहरण जैसे- Hard Disk, Projector, Monitor, Ploter और Printer आदि हैं।

Digital Computer के उपयोग?

  • इसका इस्तेमाल Mathematical Calculations, कम्प्यूटेशनल कार्य, Spacecraft, स्वास्थ्य Domain, स्कूल, कॉलेज, बड़े या छोटे आर्गेनाइजेशन, और कारखानों आदि स्थानों पर किया जाता है।
  • इसका इस्तेमाल लगभग सभी जगह Photo, Music, Video, Applications, Documents और अन्य फ़ाइलों को Store करने हेतु किया जाता है।
  • Digital Computer इंडस्ट्रियल तथा मैनुफैक्चरिंग प्रक्रिया को Controll करने के लिए USE किया जा रहा है।
  • कारखानों में, Automatic मशीनों को चलाने के लिए एक ही समय पर कई कामों को किया जा सकता है।
  • यह बड़ी मात्रा में Data Store कर सकता है और Data को High Speed से Recovered कर सकते है।
  • Users बिना किसी Interference के Multi-tasking काम कर सकते हैं।
  • इसकी Process करने Capacity Speed बहुत अधिक और सेकंड के अंदर ही Task Perform करता है।

“अक्सर पूछे जाने वाले सवाल”

मशीनरी भाषा क्या है?

0 और 1 इन दो अंको से बने Bainry Number System को मशीनरी भाषा कहते हैं।

Binary Language क्या है?

0 और 1 इन दो अंको से बनी Code Language जो electric mashines जैसे Computers में इस्तेमाल होती है को Binary Language कहते हैं।

Digital Computer क्या है?

वह डिजिटल सिस्टम है जो अलग अलग तरह के कई कम्प्यूटेशनल (Computational) काम करता है उसे Digital Computer कहते हैं।

Digital Computer Meaning In Hindi?

Digital शब्द का अर्थ, Computer में बिना किसी तारों को जोड़े आधुनिक टेक्नोलॉजी की मदद से जानकारी को दर्शाना। और Computer शब्द का अर्थ, संगणक या गणना करना है।

Digital Computer कितने प्रकार के होते हैं?

Device के प्रकार और Size के आधार पर, Digital Computer को चार प्रकार के होते हैं- 1. माइक्रो कंप्यूटर 2. मिनी कंप्यूटर 3. मैनफ्रेम कंप्यूटर और 4. सुपर कंप्यूटर।

CPU Full Form?

CPU की फूल फॉर्म Central Processing Unit है।

Digital Computer के उदाहरण

Personal Computer (PC), डेस्कटॉप, Laptop, डिजिटल वॉच, Mobile, कैलकुलेटर Smartphone आदि यह Digital Computer के कुछ उदाहरण हैं।

निष्कर्ष

तो दोस्तो आज हमने आपको Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है? के बारे में बताया है साथ ही हमने आपको आजकी पोस्ट में Digital Computer कितने प्रकार के होते हैं? के बारे में भी बताया है।

इस पोस्ट में हमने इन सबके साथ-साथ ही Digital Computer के भाग, और डिजिटल कंप्यूटर की विशेषताओं के बारे में भी बताया है। 838383 उम्मीद आपको मेरे द्वारा लिखी गई यह पोस्ट और बताई गई जानकारी पसंद आई होगी। मैं आपके लिए हर रोज़ ऐसे ही नई-नई और अच्छी जानकारियां लाती रहती हूँ जिनकी मदद से आपके ज्ञान में वृद्धि हो सके।

ऐसे ही और भी नई जानकारीयों को प्राप्त करने के लिए मेरी इस पोस्ट को दूसरों के साथ Share करके हमारा समर्थन करें। और अगर आपके पास Digital Computer In Hindi | Digital Computer क्या है? से संबंधित कोई भी सवाल हो तो उसे हमसे नीचे कमेंट सेक्शन में पूछें।

धन्यवाद

Hello मेरा नाम Areeba Khan है मैं HindiMeg.net की सदस्य हूँ, मुझे Technology में बहुत रुचि है और मैं हर दिन कुछ नया सीखती हूँ और अपने दर्शकों को सिखाती भी हूँ। उम्मीद है आपको हमारी सभी पोस्ट से अच्छी जानकारी प्राप्त होती होगी। हमारी पोस्ट को शेयर करके हमारा सहयोग दें, ताकि हम आगे भी आपके लिए ऐसी नई-नई अच्छी और रोचक जानकारीयाँ लाते रहें।

Leave a Comment